शुक्रवार, 30 अगस्त 2013

सागर-संगम - 4.


लोकमन  - काल की धारा बहती रही .जीवन का क्रम आगे  बढ़ता रहा.
सूत्र - आर्यों ने जो वर्ण व्यवस्था समाज को सुचारु रूप से चलाने के लिये बनाई थी उसमें पारस्परिक भेद-भाव ,और ऊँच-नीच की भावना नहीं थी,पर बाद में उसका रूप विकृत होता गया -यह मैंने पढ़ा है पर .....
नटी -कवि ने यह अध्याय भी रचा होगा ,है न कवि ?
सूत्र -क्यों, मित्र लोकमन ?
लोकमन - (मुस्कराता है ) धारा बहती जाये ...
धीरे-धीरे जटिल हो चली उनकी वर्ण-व्यवस्था ,
चल निकलीं जातियाँ और फिर बढ़ने लगी विविधता .
ब्राह्मण-जन विद्वान तपी थे ,इसीलिये सम्मानित ,
शस्त्र धार कर रक्षण करते क्षत्रिय शासनकर्ता.
बढ़ा राजमद क्षत्रिय में तो ब्राह्मण भी अकुलाये. धारा बहती जाए ..

ऋषिपुत्रों का हत्याप्रकरण आज याद कर लो तुम ,
परशुराम का महाभयंकर नाद याद कर लो तुम .
माँ इक्कीस बार जब छाती पीट-पीट रोई थी -
क्षत्रिय कुल का तब नृशंस संहार याद कर लो तुम .
किन्तु राम ने सोच समझ कर अपनी नीति बनाई
विप्र पूज्य हैं उनका मान न घटने पाये भाई .

दृष्य - [राम और लक्ष्मण ]
लक्षमण -हाथों में शस्त्र लिये मुनियों का वेश धरे ,
 वे कौन आ रहे हैं भ्राता अति दंभ भरे ?
राम -वे परशुराम हैं लक्ष्मण ,महा प्रतापी मुनि .
 अति क्रोधी हैं ,विनयी हो इन्हें प्रणाम करो .

[परशुराम का रक्तरंजित परशु लिये प्रवेश ,दोनों प्रणाम करते हैं ,वे स्वस्ति का हाथ दिखाते हैं पर मुखमुद्रा कठोर रहती है ]
इक्कीस बार क्षत्रियकुल को संहारा है ,,
स्वर्गस्थ पिता ,देखो प्रतिशोध लिया मैंने
इनके शोणित से तर्पण किया तुम्हारा है .
[शिव का टूटा हुआ धनु देख कर ..]
मेरे आराध्य शंभु का धनु किसने तोड़ा ?
राम -[विनय पूर्वक ]वह एक चुनौती थी, मैंने स्वीकारी थी ,
मुनि, धनुष-यज्ञ की शर्त यही, लाचारी थी .
परशु -रे मूर्ख ,शौर्य की गाथा मेरी भूल गया ?तेरा साहस मेरे गुरु का अपमान करे !
इक्कीस बार चुनचुन संहार किया जिनका ,
वे कायर क्षत्रिय फिर इतना अभिमान करें ?
लक्ष्मण   -हाँ ,हमें याद है .वही शूरता की गाथा 
अपनी जननी का शीष स्वयं जिनने काटा ?
परशु -पापी लक्ष्मण ,यह परशु अभी भी प्यासा है ,
दशरथ के कुल का अभी नाश हो जाता है .
छिप गया तुम्हारा गुरु वह विश्वामित्र कहाँ ,
पाखण्डी क्षत्रिय हो, ब्राह्मण कहलाता है .
लक्ष्मण - अपने को तो देखिये ज़रा ,[राम आँखें दिखाते हैं ],ब्राह्मण होकर भी क्षत्रिय  का बाना धारे .
 अपना बखान हर जगह करें ,हर जगह युद्ध को ललकारें .
परशु -ओ, राम रोक ले भाई को ,
 या इसे काल का ग्रास अभी बनना होगा .
राम -[लक्ष्मण से] तुम शान्त रहो ,
निन्दा करने से पूर्व स्वयं देखें भृगुवर ,
विद्या में ,तप में ,धैर्य ,क्षमा ,निस्पृहता में ,
कल्याण विश्व का करने को  हर पल तत्पर ,
गुण से ही मानव को पहचाना जाता है .
हो शान्त-चित्त आप ही विचार करें मुनिवर .
परशु -हे राम बंधु पर तेरा  आग उगलता है ,
उसका उद्धतपन  देख हृदय यह जलता है .
राम -उसको प्रणाम का मिला नहीं समुचित उत्तर ,
आते ही आते हम पर बरस पड़े मुनिवर ,
शस्त्रों से सज्जित देख और भ्रम हुआ उसे ,
बालक है ,अनुभवहीन, क्षमा कीजे भृगुवर .
 भूसुर हैं आप और हम भू के मनुज मात्र ,
इसलिये हमें कर लीजे अपना कृपापात्र .
परशु -हूँ .शिष्टता तुम्हारी ,मुझे प्रभावित करती है .
राम - ब्रह्मण -क्षत्रिय संघर्ष न हो ,सुविचार करें ,
 हम दोनों ही मिट जायेंगे .इसलिये ,पूज्यवर ,नीति सहित व्यवहार करें .
[परशुराम सोचते रहते हैं ]
नत-मस्तक हैं मुनिवर आशीष दीजिये अब ,हम आज्ञाकारी होंगे अति कृतज्ञ होंगे .
परशु -[कुछ क्षण रुक कर ]तू बहुत कुशल है राम ,विवेकी नीतिवान ,
मर्यादाओं का पालक हो आयुष्यमान !
हो राग-द्वेष से वीतराग मैं वन जाऊँ
धरती का भार उतार हाथ ले धनुष-बाण .
[परशु फेंक कर जाते हैं, दृष्य समाप्त होता है .]
 सूत्र - कैसा भयंकर ! ब्राह्मण और क्षत्रियों की भयानक शत्रुता .इक्कीस बार भीषण नरसंहार .राम ने विवेक से काम न लिया होता तो न जाने क्या होता .
नटी -और उन्होंने ब्राह्मणों की श्रेष्ठता स्वीकार कर ली .उनके निर्देशन में चलने को धर्म मान लिया
 सूत्र -हाँ ,मैंने पढ़ा है.इसके बाद नियमों के जटिल बन्धनों में समाज को जकड़ दिया गया .जन्म से मृत्यु तक कोई न कोई संस्कार .जो जरा हट कर चले, पापी कहलाये और प्रायश्चित के लिये तैयार रहे .
लोक - मार्ग रुद्ध कर दिया बुद्धि का, बाधित कर चिन्तन को ,
अहंकार से भरे मानते भू- देवता स्वयं को ,
पाप ,नरक का भय दिखला कर कुण्ठित कर डाला मन ,
विधि-निषेध के जटिल बंधनों में जकड़ा जीवन को .
सूत्र -  बदलते परिवेश में , उपयोगिता खोती व्यवस्थाएँ  भी रूढ़ होती गईँ , 
लोक . वह संक्रमण का काल था .अनेक संस्कृतियों की टकराहट .  सच है कि दूसरे को नीचा दिखा कर कोई बड़ा नहीं हो जाता .
सूत्र. - ऊँच-नीच की यह भावना समाज का ताना - बाना ढीला करने लगी ,स्त्रियों का गौरव नष्ट हुआ वे भोग्या मात्र रह गईं  .उच्च नैतिक आदर्शों का ह्रास होनो लगा .
  ,भोग-विलास की प्रधानता और उच्चादर्शों का हनन हो  और मानव चरित्र  का पतन परिणाम सामाजिक विग्रह 
नटी - हाँ कवि ,रामायण काल में नारी की अस्मिता क्षीण हो गई थी, मन और आत्मा का नहीं ,  दैहिक शुद्धता  का महत्व  रह गया था .
लोक - नर-नारी की समानता के सारे मान बदलते गए. महाभारतकाल तक वह हरण  और सेवन की वस्तु रह गई.वर्णाश्रम धर्म के दिन बीते .वृद्धावस्था में भी अबाध भोग लालसा वंश-बेलियों को डसने लगी , रोगी, निर्वीर्य संतानें  और अपंग उत्तराधिकारी  जो राज्याधिकार पाकर अपनी प्रतिद्वंद्विता में महाभारत का आवाहन कर बैठीं .महा भयंकर युद्ध जि सने देश के शक्ति-शौर्य और सुख-समृद्धि को निगल डाला परिणाम  बाहरी लोगों को यहाँ घुस-घुस कर आँखें दिखाने  की हिम्मत होने लगी . 
पर एक उपलब्धि उस युग की रही श्रीकृष्ण  का गीता-दर्शन और न दैन्यं न पलायनं का उद्घोष .
सूत्रधार  - वह विनाशकारी महासमर जिसने विध्वंस मचा कर इस वसुंधरा की ऊर्जा और पोषण-क्षमता को भी दग्ध कर दिया . इसी दूषण का परिणाम रहा सदानीरा सरस्वती का लोप . एक भरी-पुरी सभ्यता की जीवनी शक्ति को ग्रहण लग गया  ..
कैसा रहा होगा वह युग -वह राजा ,वह राज सभा जिसमें कुलवधू  का वस्त्रहरण .. ,भ्रूण -हत्या ...

 नटी -  नहीं-नहीं रहने दो ( हाथ हिला कर बरजते हुए ), कवि नहीं .वे दारुण दृष्य मंचित न हों अब . बस हमें तो  उस प्रेमावतार के दर्शन करा दीजिये . हमारे विषण्ण होते मानस को किंचित आश्वस्ति मिले .

( एक सांस भर कर सूत्रधार  सिर झुका लेता है . लोकमन, मौन पृष्ठभूमि पर दृष्टि लगाए  है.  धीरे प्रकाश बढ़ता है और बाँसुरी की मधुर धुन )
*
(क्रमशः)

9 टिप्‍पणियां:

  1. सामाजिक मान्यताओं का कैसे ह्रास हुआ ...सारे ही दृश्य दिखा डाले आपने ... बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया
    गहरे भाव-
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  3. समाज के बदलते स्वरूप का सही चित्रण...अब कृष्ण की प्रतीक्षा है..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (01-09-2013) के चर्चा मंच 1355 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रतिभा जी आभारी हूँ आपकी कि आपने मेरी पोस्ट पर टिप्पणी करने के लिये मेरे ब्लॉग पर आने का कष्ट उठाया ! मैं स्वयं नहीं समझ पा रही हूँ कि ऐसा क्यों हो रहा है ! कभी-कभी कमेंट बॉक्स ना खुलने की शिकायत तो कुछ पाठकों ने की हैं लेकिन फॉर्म भरने वाली बात किसीने नहीं बताई ! मैं पता लगाने की कोशिश करूँगी कि इस समस्या का क्या समाधान हो सकता है ! मेरे उत्साहवर्धन के लिये आप अपनी प्रतिक्रिया मुझे मेल से भेज दिया करिये आपका अपार अनुग्रह होगा ! मेरा मेल ID यह है !
    sadhana.vaid@gmail.com
    सादर साभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका लेखन अत्यंत प्रभावी व सम्पूर्णता लिये होता है ! इतनी सार्थक पोस्ट के लिये आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत उत्कृष्ट और प्रभावी...

    उत्तर देंहटाएं