बुधवार, 13 नवंबर 2019

मैं, अश्वत्थामा बोल रहा हूँ - 3.

*
द्वापर युग बीत गया. मानव के मान-मूल्यों के क्षरण की गाथा रच, मानव चरित्र का वह अद्भुत आख्यान,अपने अध्याय पूरे कर, छोड़ गया अंतर्चेतना के मंथन से प्राप्त नवनीत - गीता का जीवन-बोध!
संसार की उपेक्षा झेलते बड़ा हुआ मेरा मन कटु हो उठता है .एक पिता ही तो थे मेरे अपने   जो उस धर्मधारी की बलि चढ़ गये.

 तब आदर्शों से व्यावहारिकता का पलायन पहली बार देखा था.फिर तो सहस्राब्दियों लंबा जीवन जीते मानव मानों की घिसावट कितनी बार देख चुका. अपने विचारों में बार-बार वहीं पहुँच जाता हूँ. उस पुराने जीवन में जिसके लिये मुझमें उत्कट जिजीविषा थी , जिसे बहुत पास से देखता रहा था. प्रारंभ से तरसा था हर  वस्तु के लिए, जब राजसी वातावरण में गुरु-पुत्र का का मान पाकर प्रत्येक सुविधा का भागीदार बन गया,तब आगे बढ़ते ,अचानक ही सब छिन गया. पिता की नेह छाया के लपेटे में सब चला गया और दे गया अंतहीन, एकाकी अशान्त व्यथाएँ.


लगता है,वह महागाथा अभी पूरी नहीं हुई. मसि की तरल श्यामता लेखनी की जिह्वा रँग  देती है,पुकार उठती है ,'समर शेष है लेखक,स्याही सूखी नहीं है.' और तब कोई आकुल अंतर से नये पृष्ठ  जोड़ता हैं,जैसे  क्रमशः की एक और  आवृत्ति हुई हो.
  
 प्रायः जिन्हें महान् समझा  जाता है उनकी दुर्बलताएं उन पर आरोपित  प्रभामंडल में ओझल रह जाती हैं. लोक-धारणा अपने  विपरीत किसी बात को सहज स्वीकार नहीं पाती, जिसका प्रतिफल झेलते हैं, कुछ लपेटे में आए बेबस लोग ,जो अपनी बात न खुल कर कह पाते,न अपनी मान्यताएँ बदल पाते हैं. कभी कोई आवाज़ उठे भी तो नक्कारखाने में तूती की आवाज़ किसे सुनाई दे!
जन साधारण  अपने आप में व्यस्त,जो सामने आ गया ठीक, न सच्चाई जानने में रुचि ,न अवकाश,और न साधन. वास्तविकता पर इतने आरोपण कि असली रंग जानना मुश्किल. शासक-शासित के बीच संवाद वाले तत्व,अपने हित या राजहित की करने में लीन ,जानते हैं कि जन में न इतनी क्षमता है ,न चेतना. विश्वास करने के अतिरिक्त और कोई चारा नहीं उसके पास .स्पष्ट दृष्टि ही नहीं जहाँ ,वहाँ विवेक की बात करना व्यर्थ है. अपने तात्कालिक हानि-लाभ,हित-अनहित की बात उसकी समझ में आती है, दूरगामी परिणाम में कोई रुचि नहीं उसकी.
यही तब था और अब भी वही. तब का साक्षी रहा  मैं  था और आज भी दर्शक रूप में विद्यमान हूँ ,

मेरा जीवन पूरा कहाँ हुआ. मेरे अतिरिक्त सब बीतता चला गया,  मेरा अपना कोई नहीं है अब. तब भी एक पिता ही तो थे. कैसे छल से जग-विदित धर्मात्मा ने उनकी  हत्या करवा दी. मेरे पिता, जो उन सबके मान्य गुरु थे, पूज्य थे. अपने गुरुत्व से  कहाँ से कहाँ पहुँचा दिया था अपने शिष्यों को .उन्हीं के साथ ऐसा गर्हित कृत्य.अपने स्वार्थ की सिद्धि हेतु सच के खोल में  सफ़ेद झूठ बोल गये वे, वे जो धर्मराज कहलाते रहे  ?
 हाँ,उन सब की दुरभिसंधि रही थी, मानता हूँ. लेकिन जिसकी येन केन प्रकारेण स्वयं को सही सिद्ध करने का स्वभाव बन गया हो, वह दूसरों की  सुनता कहाँ है !
हाँ, वही युधिष्ठिर,जो  भाइयों को अपने अनुसार चलाता रहा था.
 अब भी याद है मुझे उस दिन दुःशासन ने कहा था-
 'और भाई तो फिर भी किसी न किसी अर्थ  के हैं ये किस अर्थ के? ' शकुनि हाथ नचाते बोल उठा था, 'द्यूत पुरुष हैं वे,कोई अवसर छोड़ेंगे नहीं.भाइयों की कौन सुनता है.सदा अपनी चलाता है वह महा अदूरदर्शी.'
दुर्योधन ने तुरत कहा  - 'वह पत्नी जो पूरी उसकी है ही नहीं, न नीति से न रीति से,जरा-सा चढ़ा दो तो उसे भी दाँव पर लगा देगा .'
शकुनि उछल पड़ा था,'क्या निरीक्षण शक्ति पाई है भागिनेय, रास्ता दिखा दिया तुमने.मिल गई चाबी उसे चलाने की...'
'क्या हुआ मामाश्री?'
'बस अब पूछो मत ,देखे जाओ. भाई कसमसाते रहें ,स्त्री कुढ़ती रहे पर ये वही करेगा जो झक चढ़ गई ,और किसी की सुनेगा नहीं.
अब जीजाश्री को साधे रहना तुम्हारा काम.'

दुर्योधन की बात मुझे  सही लगी. मुझे भी उनके सब कार्य अपनी सुख -सुविधा से प्रेरित लगते हैं, चाहे पांचाली का विभाजन हो चाहे द्यूत के दाँव .दूसरों को माध्यम बनाता स्वार्थी व्यक्ति,जिसमें दूरदर्शिता का लेश नहीं. उनका किया-धरा भुगतने को शेष चार हैं ही,उन्हें काहे की चिन्ता.हर ओर से सुरक्षित . बस अँगूठे दादा बने चारो अँगुलियां नचाते रहने के अभ्यस्त.

वह समय बीत चुका  है ,शेष रह गई कथाओं को आगत जन अपने अनुसार व्याख्यायित करेंगे. कोई निष्कर्ष निकालना असंभव,क्योंकि वह काल खण्ड,अपनी सीमाओं सहित सदा को पहुँच से बाहर हो चुका है. महाप्रयोगशाला की घड़ी के गत-आगत के बीच  डोलते हुये लोलक सा रह गया - मैं अश्वत्थामा!
*

बुधवार, 30 अक्तूबर 2019

अपनी अपनी पैकिंग -


*
बड़ा लोभी है मन ,कहीं सुन्दरता देखी नहीं कि अपने भीतर संजो लेने को उतावला हो उठता है. और तो और प्लास्टिक के सजीले पारदर्शी लिफ़ाफ़े जिसमें कोई आमंत्रण-अभिन्दन या कोई और वस्तु आई हो फेंकने को सहज तैयार नहीं होता. इसे लगता है कितना स्वच्छ है इसमें अपने लिखे-अधलिखे बिखरे पन्ने सहेज लें,जो अन्यथा दुष्प्राप्य हो जाते हैं. जब ऊपरसे ही दिख जायेगा तो खोज-बीन करते मूड चौपट होने की नौबत नहीं आएगी.
अब तो सामान्य प्रयोग का सामान, और-तो-और नित्य प्रयोग  की छोटी-मोटी वस्तुएँ भी ,बेचने के लिये ,ऐसी आकर्षक पैकिंग में रखी जाती हैं जैसे संग्रहणीय वस्तुएँ हों.ये नहीं कि कागज़ में लपेटा और पकड़ा दिया.पैकिंग के लिये मैंने हिन्दी भाषा का शब्द खोजा तो कोई पर्याय,या समानार्थक शब्द नहीं मिला. वैसे भी समय के साथ नया ट्रेंड चलने पर नये शब्दों की आवश्यकता पड़ती है,तो यही सही!
कभी-कभी तो स्थिति ऐसी, जैसे विगत-यौवना को दुल्हन बना कर उस पर आवरण डाल दिया गया हो.अंदर का माल का पता ही नहीं चलता कि कैसा है.जैसा है किस्मत पर संतोष करिये. व्यवसायी का उद्देश्य कि बैग कहीं से पारदर्शी न छूटे जो अंदर की अस्लियत देख गाहक बिदक जाय. तो यह उपाय सबसे आसान. सावधानी इतनी कि कहीं जरा सी  संध से भंडाफोड़ न हो जाय. 
कितना पैसा खर्च होता होगा इस टीम-टाम में !
लेकिन पुराना माल भी तो निकालना आवश्यक है.
हाँ तो ,सामग्री से अधिक महत्व है उसकी पैकिंग का. अब वे दिन लद गए कि दूकान पर गए, हाथ में लेकर माल परखा और  सामने बैग में नाप-जोख कर डलवा लिया. 
हर क्षेत्र में यही हाल है अब तो. फ़ोटो में जो सुन्दर दिखे, वास्तविकता में वहाँ  कितना मेकप थोपा गया है आप नहीं जान सकते .समाचार पत्र में जो पढ़ रहे हैं उसके बैकग्राउंड में क्या-क्या समाया है कहीं स्पष्ट नहीं किया जायेगा. क्योंकि सामान से अधिक महत्व उसकी पैकिंग का है उसे मन लुभाऊ होना चाहिये.  ठीक भी है सामान कुछ दिनों बाद समाप्त हो जाएगा पैकिंग रहेगी चिरकाल तक. इसीलये गाहक को लुभाने में ऊपरी टीम-टाम अर्थात् पैकिंग का बड़ा महत्व है.  
केवल व्यवसायी ही नही लाभ के लिये ये उपाय सभी आज़माते हैं. उनके व्यापार का प्रश्न है तो इनके सहचार की ये रीत है. अपने स्वयं को एक आवरण के साथ प्रस्तुत करना- पैंकिंग नहीं तो और क्या है? और हम कौन इस से अलग हैं, हम सब पैकिंग में रहनवाले लोग हैं. जो जानते हैं आवरण ऊपरी वस्तु है ,आवश्यकता पड़ने पर बदला भी जा सकता है. 
हम वैसे के वैसे रहेंगे. किसी को आभास तक नहीं होगा कि अंदर क्या-क्या भरा है. ओढ़े रहिये चाहे जितनी पैकिंग ,अंदर के माल पर कोई आँच नहीं, बिलकुल निश्चिंत रहिये!
*

रविवार, 20 अक्तूबर 2019

अक्ल की बाढ़

*
यह अक्ल नाम की बला जो इन्सान के साथ जुड़ी है बड़ी फ़ालतू चीज़ है. बाबा आदम के उन जन्नतवाले दिनों में इसका  नामोनिशान नहीं था. मुसम्मात हव्वा की प्रेरणा से अक्ल का संचार हुआ, परिणामस्वरूप हाथ आई  ख़ुदा से रुस्वाई. इसीलिये इंसान को  अक्ल आये यह कुछ को तो बर्दाश्त ही नहीं, उनका कहना है इंसान को खुद सोचने-विचारने की जरूरत ही नहीं . ख़बरदार! अपनी अक्ल कहीं भिड़ाई तो समझो गए दोज़ख में. और अक्ल के पीछे लट्ठ लिये घूमते हैं.
 मुझे अक्ल की दाढ़ ने बड़ा परेशान किया था. जब अच्छी तरह सिर उठा चुकी तब पता लगा. समझ में नहीं आता जब अक्ल आने की उम्र होती है तब यह  क्यों नहीं निकलती.पढ़ाई और एक्ज़ाम का समय था तब  हाथ नहीं आती थी बाद मे अचानक निकल कर तमाशे दिखाने लगी  .
अति सर्वत्र वर्जयेत् - मानी हुई बात है. अक्ल बढ़ेगी तो कुछ न कुछ गज़ब करेगी. तो इस अक्ल की दाढ़ को क्या कहा जाय?  अचानक कोई चीज़ बढ़ जाय तो बैलेंस बिगड़ जाता है. केवल अक्लमंद हो यह किसी के बस में नहीं - बैलेंस बराबर करने को बेवकूफ़ियाँ  लगी-लिपटी रहती हैं.सामने आने से कितना भी रोको ,जरा ढील पाते ही पाते ही प्रकट हो जाती हैं .
फ़ालतू की अक्ल ही सारी खुराफ़ातों की जड़ है जीना हराम कर देती है औरों का और अपना भी अचानक बाढ़ आती है तो दिमाग़ का बैलेंस बिगड़ने लगता है, अनायास अजीब वक्तव्य मुखर होने लगते हैं. एक उदाहरण लीजिए-   छत्तीसगढ़ के एक मंत्री महोदय का बैग चोरी हो गया. नाराज होते हुए उन्होंने कह डाला, ‘‘मोदी जी रेलवे में मंत्रियों के बैग चोरी करवा रहे हैं। 100 दिन के कार्यकाल पूरे होने की ये उनकी उपलब्धि है.'' यही कहलाता है- अक्ल का विस्फोट .
 वैसे तो दिमाग़ की कमी नहीं इस दुनिया में,ढूँढ़ने चलो हज़ार मिलते हैं, अपने बिहार की खासूसियतें तो जग-ज़ाहिर हैं. वहीं के एक मुख्यमंत्री जी की  ज़ुबान ज़रा फिसल गई ,फिर क्या था ,मीडियावाले तो इसी  ताक में रहते हैं. ले उड़े. तमाशा बनने लगा तो महोदय भड़क गए, 'बोले हमें  गलत ढंग से पेश किया गया.' खिसियाहट में पत्रकारों को उचक्का कह डाला.यों उनका कथन ग़लत भी नहीं था -ये लोग भी तो कच्ची-पक्की हर बात उचक लेते हैं. मंत्री जी आवेश में थे ही, आगे कहते चले गए,'हम तो लात खाने के लिए ही बैठे हैं, कोई इधर से मारता है तो कोई उधर से..' ज़ुबान कुबूलती चली गई. सच ही तो बोल रहे थे - बेचारे!
जानवरों में नहीं होती . कैसी शान्ति से रहते हैं .और ये फ़ालतू अक्लवाले !कभी इधर की कमी निकाली कभी उधर की चूक. न अपने को चैन, न दूसरों को चैन लेने दें.   .
अरे, पर मैं ये सब क्यों कहे जा रही हूँ? दुनिया जैसी है, वैसी रहेगी हमारे रोने-झींकने से कोई बदल थोड़े न जायगी.
अपने को क्या!

कबीर सही कह गए हैं -
'सुखिया सब संसार है खाये अरु सोवे ,
दुखिया दास कबीर है जागे अरु रोवै.'
*

मंगलवार, 27 अगस्त 2019

आस्थावान या आस्थाहीन?

*
मुझे याद है उन दिनों, की जब मोहल्ले के मंदिरों में सुबह-शाम झाँझ-मझीरे बजाकर आरती होती थी ,आस-पास के बच्चे बड़े चाव से इकट्ठे हो कर  मँझीरा बजाने की होड़ लगाए रहते थे.नहीं तो ताली बजा-बजा कर ही सही आरती गाते थे . उनके आकर्षण का एक कारण वह ज़रा-सा प्रसाद भी होता था- प्रायः ही बूँदी के या इलायची दाने , परम संतुष्ट भाव से दोनो हाथों से सिर चढ़ाकर जिस आनन्द-भाव में वे बाहर निकलते थे ,अपने आप में एक दृष्य होता था.
धर्म का आधार नैतिकता है ,उस के दस लक्षण इसी के परिचायक हैं.लेकिन धर्म और नीति के पुरोधा अपने-अपने ढोल पीटने की धुन में समाज को दिशा देने का  कर्तव्य  भूल जाते हैं .और माता-पिता एवं शिक्षक कक्षाओं में उत्तीर्ण हो जाने को योग्यता का मानदण्ड बना लेते हैं .यह तो पढ़ने-लिखनेवाले बच्चों की बात हुई ,जिन्हें शिक्षा पाने की कोई सुविधा नहीं ,उन  पर भी ध्यान देना भी ज़रूरी है. समाज को विकृतियों को बचाने के लिये प्रारंभिक अवस्था में उनको सही संस्कार मिल जाएँ तो अनेक विकृतियों से बचे रहने की संभावना बनी रहती है. आगत पीढ़ियों को  उचित संस्कार देकर ही विचलन से बचाया जा सकता है .

एक बात और -
 मूल देवताओं से हट कर नये-नये आश्रयों  की संख्या  में इजाफ़ा होता जा रहा है . लोग किसी नये पीर,संत या देव की सूचना सुनते ही दौड़ पड़ते हैं . स्वार्थ-सिद्धि की सिफ़ारिशों के लिये एक नया ठीहा जो मिल गया! कितनी तत्परता से नये-देवताओं की उद्भावना और स्थापना हो जाती है.सामान्य जन बिना विचारे ही ऐसे प्रयोगों के लिये उत्साहित रहता है.कैसा स्वार्थी विश्वास कि अपनी मूल मान्यताओं को भुला कर नये ठिकानों में समाधान  खोजते फिरते हैं. समझ में नहीं आता इसे आस्थावान होना का कहा जाय  या आस्थाहीन!
इस दौड़ में अपनी परंपराएँ और उनकी शुचिता की बात भुला दी जाती है .अभी पिछले दिनों विष्णु-पत्नी लक्ष्मी को कुछ समय पहले उदित हुए एक नये देव के चरणों में बैठा दिया गया था(बाद में  विरोध के स्वर उठे थे )लेकिन अपनी सुदृढ़ परंपराओं का विदूषित होना किसी का मन कैसे सहन कर लेता है,
गीता के गायक,कर्मशील  कृष्ण को तो हमारे पुराणकारों ने ही लंपट-लफंगा बना डाला, उसकी परिणति क्या होती चली गई ,सर्वविदित है .राधा एक गुमान भरी प्रदर्शन-प्रिय युवती रह गई जिसके पीछे गली के लड़के लगे रहते हैं  ( याद कर लीजिये सिनेमा का गाना जिसा पर लोग हाव-भाव के साथ नाचते हैं )ऐसे उपक्रम समाज को पतन की ओर ले जा रहे हैं ,राधा-भाव की ऐसी दयनीय परिणति,और ऐसी  कुत्साओं के समावेश से,धर्म की भावना  तमाशा बन जाती  है .
हर संप्रदाय या धर्म के कुछ अपने नियम-अनुशासन होते हैं ,जिन्हें उसके अनुयायी शिरोधार्य करते हैं,भारतीय परंपरा मे विकसित,जैन और बौद्ध धर्म बहुत बाद में आये लेकिन उनमें भी नीति-नियमों का अनुशासन मान्य है ,पर हमारे समाज का एक बड़ा भाग किसी नियमन  को नहीं मानना चाहता,उनका मज़ाक उड़ा कर अपने आपको उससे ऊपर समझ लेता है .

 धार्मिक स्वतंत्रता के नाम पर खुली छूट मिलने के स्थान पर कुछ अनुशासन होने चाहियें जिससे कि बिना सोचे-समझे कैसे भी कुछ करने की मनमानी न हो .कैलेण्डरों में और निमंत्रण पत्रों ,में देवी-देवताओं के चित्र ,और अब तो स्टिकर्स का भी प्रयोग होने लगा है,जो बाद में बेकार हो कर कूड़े  में फिंक जाते हैं, पाँवों के नीचे आते हैं और गंदगी में पड़े रहते हैं. ऐसी स्थितियों पर  रोक लगनी चाहिये.
धर्म में आती जा रही इस अराजकता पर ,सामान्य जन बिना सोचे-विचारे ,केवल अपनी सुविधा के लिये  दौड़ पड़ता है ,उस पर भी अंकुश लगना ही चाहिये . मनमानी न हो ,समाज जाग्रत हो, इसके लिये  समुचित प्रयत्न होने  वाञ्छित हैं .

 ऐसी एक संहिता की भी आवश्यकता है
 जिसमें धर्म का सर्वजन-सुलभ, सहज  निरूपण हो,जिसे सामान्य व्यक्ति ग्रहण कर सके,जिसे कोई विरूप न कर पाये., नैतिकता शिक्षा पर समुचित बल हो    समय-समय पर उसका व्यावहारिक आकलन और सुधार भी होता रहे.
 कुंभ जैसे अवसरों पर धर्माचार्य मिलकर  समुचित विचार और समीक्षा कर लोगों का मार्ग-दर्शन करें तो कितना अच्छा रहे ..
  लोग गंभीरता से अपनी आस्था पर जमे रह सकें तो विचलन की संभावना न रहे ,क्योंकि
धार्मिक परिप्रेक्ष्य व्यक्ति के ही नहीं सामाज के मानदंडों को भी प्रभावित करते हैं .
*

शुक्रवार, 18 जनवरी 2019

मैं अश्वत्थामा बोल रहा हूँ (2) -

  *
           वही पुरातन परिवेश लपेटे ,लोगों से अपनी पहचान छिपाता इस  गतिशील संसार में एकाकी भटक रहा हूँ .चिरजीवी हूँ न मैं ,हाँ मैंअश्वत्थामा !
            कितनी शताब्दियाँ बीत गईं जन्म-मरण का चक्र अविराम घूमता रहा , स्थितियाँ परिवर्तित होती गईं,नाम,रूप बदल गये - बस एक मैं निरंतर विद्यमान हूँ उसी रूप में ,वही पीड़ा अपने मे समेटे. जो घट रहा है उसका साक्षी होना मेरी नियति है. .सांसारिकता से मोह-भंग हो गया है .दृष्टा बनने का यत्न करता हूँ ,पर सदा तटस्थ नहीं रह पाता. माथे के घाव की रह-रह टीसती पीर बेचैन कर देती है ,भीतर कोई वेग उमड़ता है .केवल अशान्ति पल्ले पड़ती है.
          विगत और वर्तमान दोनों मेरे संगी - जिसकी उपज हूँ उससे छूट सकूँ ऐसा कोई उपाय नहीं, और पल-पल बदलते संसार के बीच नित्य नये आज में जीवित रहना है .गुरुपुत्र  होने के नाते तब सब स्वजन थे मेरे- विरोधी कौन रहा था कह नहीं सकता.संभवतः कोई नहीं. मुझे दुर्योधन से सहानुभूति थी. उसने ही मेरे विपन्न परिवार को आश्रय देकर मान-मर्यादा दी थी.अर्जुन मेरे गुणी  पिता का प्रिय शिष्य था और मैं प्रिय पुत्र. सर्वाधिक समर्पित शिष्य के प्रति गुरु का विशेष झुकाव स्वाभाविक था. आत्मज के प्रति भी स्नेह कम नहीं था पर कभी-कभी उससे ईर्ष्या होती थी मुझे. कुछ विद्याएँ उन्होंने केवल मुझे दीं थीं .और वही मेरे इस दारुण दुख का कारण बन गईँ .
शताब्दियों का मौन जब टूटता है, एक बाढ़-सी उमड़ती है -तमाम धाराएँ,मुक्त होने को व्याकुल और मार्ग रुँधने लगता है.
        अब लगने लगा है कि महाभारत किसी धर्मविशेष की न हो कर मानव के जातिगत क्रिया-कलापों की असमाप्त गाथा है, जिस का मंचन विश्व पटल पर अनवरत चल रहा है. निरंतर चलते इस  घटना-क्रम में एक के बाद अनेक त्रासद और वीभत्स स्थितियाँ  उत्पन्न हो रही हैं ,
         वही सब दोहराया जा रहा है ,आदर्शवाद का चोला पहन कर झूठ-सच एक कर देने का वही कौशल - मुझे  धर्मराज युधिष्ठिर की याद आती है ,उनका जीवन ही जैसे सत्य और नीति की प्रयोगशाला बन गया था.  छोटे भाई की जीती हुई वीर्य-शुल्का कन्या, को माँ के सम्मुख भिक्षा के रूप में रख कर उसमें हिस्सा पाने का आयोजन सफल रहा था. फिर उसे द्यूत के दाँव पर लगा देना ,उनका एकाधिकार. यह भी याद है कि पांचाली ने जब-जब अपनी बुद्धि और अधिकार का उपयोग करना चाहा, उसे विरत करते रहे. राजसभा में बुलाये जाने पर उसने दूत से जब प्रश्न पूछने प्रारंभ किये तो तुरंत लिख कर भेजा -'इस दशा में जब तुम रोती हुई इस कुरु-सभा में आओगी तो हमें सबकी सहानुभूति मिलेगी.'
          सबको नहीं पता होगा पर मैंने उनके नीति कौशल का खेल, वह  मुड़-तुड़ा परचा देख लिया था. कैसा लगा था मुझे,उस क्षण ,ओह, कैसी विरक्ति जागी थी .और बाद में वे  मेरे पिता के,अपने गुरु के विश्वास पर  भी अपना सत्य का प्रयोग कर गये.मुझे वितृष्णा हो गई थी उनसे.
         कैसा विरूप कर  दिया जाता है सत्य को कि ,नीति ,न्याय और औचित्य के लिये  न होकर वह मतलब की लादी हुई गठरी भर रह जाता है
काश, कि वे कृष्ण के जीवन से  कुछ सीख लेते. उन्हीं के बांधव कृष्ण, समाज पर बोझ बन गई रूढ़ियों को तोड़ने में सदा पत्पर .और वे जीवन भर धर्मराज बने रूढ़ परंपराओं की दुहाई देते सबके लिये मुसीबतें न्योतते रहे.जब कि विषम  स्थितियों में कृष्ण अपनी वैयक्तिक सीमाओं से ऊपर उठ कर  यथार्थ-परक और लोक हितकारी निर्णय लेने वाले सिद्ध हुए, स्वयं के, यश-अपयश  से ऊपर उठ कर प्रतिज्ञा भंग करने को तत्पर हो व्यापक कल्याण की आयोजना करते रहे. यहीं नहीं रुके वे. निन्दा होगी इसका विचार किये बिना,रण छोड़ कर पलायन किया, आपातकाल  समझ नीति से च्युत होना भी उचित समझा .
उन्होंने स्थापित किया कि नीति का उद्देश्य औचित्य की रक्षा है ,लोक-कल्याण का हेतु है ,  मर्यादा का निर्वाह, निर्दोष-असहाय को संरक्षण देना है. यदि वही भंग हो रहा हो तो नीति, अनीति बन जाती है.

           कृष्ण के चरित्र की गहनता और गंभीरता को पुराणकारों ने विरूपित कर डाला. निस्पृह भाव से कर्मशील रह,जिसने गीता का बोध अपने जीवन  में सिद्ध किया , उसे अति विलासी एवं लंपट का रूप दे कर लोक के मानसिक विलास का मार्ग खोल दिया.लोक-मानस में उनका वही रूप बस गया ..'महाजनो येन गतः स पंथा'- उक्ति चरितार्थ हुई, और पूर्णावतार,कर्मयोगी कृष्ण ,शृंगार देवता बन गये. जब कामना की उद्दाम तरंगों में विहार करने को मिल रहा हो (साथ ही  भक्ति का अभिधान जिसे अभिनन्दनीय बना रहा हो)  फिर निष्काम कर्म को कौन पूछे? यही पृष्ठभूमि आगे के अनेक कर्मकण्डों का आधार बन गई ,कृष्ण लीला की आड़ में अश्लीलता परोसी जाने लगी. शताब्दियों तक भक्ति के नाम पर नैतिकता का अवमूल्यन होता रहा . धर्म की यह गति धर्माचार्यों को क्यों नहीं खटकती आश्चर्य होता है.
           धर्म और नीति के नाम पर युठिष्ठिरी-नीति का अनुसरण करनेवाले महापुरुषों को कौन नियंत्रित  करता ? अनुकर्ता ,शान्तिदूत बन कर .दूसरे के अतिक्रम को  टालते चले जाते हैं ,अहिंसा के नाम पर  एक गाल पर थप्पड़ खाकर दूसरा गाल भी आगे बढ़ा देने का उपदेश देते हैं .इस नीति में घटा कुछ नहीं है, बढ़ाव ही हुआ. सत्य का अनुशीलन ,सरल -सहज पारदर्शी व्यवहार न रह कर कैसे अनेक प्रयोगों का रूप धर सकता है नीति को अपनी अपने अनुसार विविध रूपों में कैसे ढाला जा सकता है , धर्म की धारणाएँ  अवसरानुकूल कैसे रूप बदलती हैं , देखता चला आ रहा हूँ .
         मानवता मरती रहे अश्वत्थामा जीता रहेगा ,नहीं मर सकता वह - उसे दारुण दुख सहन करते चिर काल जीवित रहना है.
         सदियों के अंतराल से उठती,अभिशप्त मानवता की विकल पुकार हूँ, मैं  अश्वत्थामा !
*
(क्रमशः)

रविवार, 23 दिसंबर 2018

एक और काल --

*
'पापा, खाना खाने आइये.' बच्चे ने आवाज़ लगाई .
  'नहाय रहे हैंगे' उत्तर देता वयोवृद्ध नारी स्वर .
मैं वहीं खड़ी थी ,सुन रही थी बस.
 व्याकरण के पाठ में हमने पढ़ा था -  क्रिया के  तीन रूप होते हैं - 1 .जो हो चुका है - भूत काल, 2.जो घटित हो रहा है- वर्तमान काल और 3 .जो आगे(भविष्यमें) होगा  वह भविष्य काल  , मोहन आया ,मोहन आता है ,मोहन आयेगा -भूतकाल था,वर्तमान है और भविष्य (हो) गा.
फिर ये  'नहाय रहे' का 'हैंगे' किस खाते में जायेगा ?
 कालों का यह रूप  अक्सर सुनाई दे जाता है -कल  पड़ोस की भाभी जी कह गईं -मच्छर बहुत हो गये  हैंगे .
 'हैगा' के  चक्कर में पड़ी सोचती रही इसे वर्तमान माने या भविष्य ?
 इसमें दोनों हैं-वर्तमान काल में मच्छर हैं आगे भी रहते रहेंगे  - इस 'है' वाले 'गा' को कौन से टेन्स में डालें?
 आजकल तो ज्ञान-विज्ञान बड़ी तीव्र गति से बढ़ रहे हैं.यह कोई नया विकास होगा.
 फिर अपनी सासू-माँ की याद आई वे भी कभी-कभी ऐसे ही बोलती थीं . मुझसे बहुत बड़ी जिठानी अक्सर ही 'हैगा' लगा कर  अपनी नफ़ासत दिखाती थीं .
 तब मेरा ध्यान क्यों नहीं गया ?
लेकिन जाता  कैसे? ससुराल की तो बहुत बातें मेरे लिये नई थीं ,क्या-क्या नोट करती और बाद में रही ही कितना!
तो यह आज से नहीं पीढ़ियों से चल रहा है .पता नहीं अब तक किसी वैय्याकरण या भाषाविद् ने इस पर कुछ कहा-सुना क्यों नहीं?
काल-क्रम में एक नया ट्रेंड आस-पास सब जगह फैल चुका है .
मंदिर में एक महिला से सुना,'हम तो रोज भगवान से मनाती हैंगी .....'
वे क्या मनाती हैं इसका ढोल नहीं पीटना मुझे, बस उनके 'हैंगी' पर विचार करना है.
 मनाती हैं और मनाएँगी आश्वस्त कर रही हैं - चलो यह भी ठीक .
 पर जब मुन्ना खाना खा रहा हैगा या पड़ोसी बीमार हैगा तो आखिर  भविष्य तक खाता ही चला जायेगा ,या पड़ोसी बीमार ही पड़ा रहेगा - इसी चक्कर में पड़ी रही .
भला बताओ  'झूला पड़ गया हैगा'
-पड़ गया  है ,तो बात खतम् ,भूतकाल हो गया काम , फिर 'गा' से क्या मतलब - उसके टूटने की संभावना है ?
मतलब होगा - झूला टूटेगा ,और पड़ेगा.
फिर तो साफ़ बता देना चाहिये .क्या फ़ायदा कोई झूलते-झूलते गिर पड़े .
लोग सोचते क्यों नहीं!

खड़ी बोली में सभ्यता से बोलने में कहा जाता है 'आइयेगा' ,
लोग औपचारिता में कहते हैं  'तशरीफ़ लाइयेगा' (यहाँ भविष्यमें आने के लिये कहा है) .
हमारे घर एक सज्जन आते हैं .एक दिन कुछ दिखाने को लाये थे . बोले, 'ज़रा देखियेगा...'
बात मुझसे नहीं इन(पति) से हो रही थी .
मै तो बस सुन रही थी.समझने का यत्न कर रही थी - अभी देखने को कह रहे हैं कि आगे कभी...
 ये  'गा' वाली बातें अक्सर मेरी समझ से बाहर रह जाती हैं .
कोई भावी वैय्याकरण जब भाषा पर विचार करेगा तो व्यवहार में चल गये  इस रूप को किस खाते में डालेगा?
- जानने की प्रतीक्षा रहेगी. 

सोमवार, 17 दिसंबर 2018

विराम-अविराम

[यह पूर्व- कथन पढ़ना अनिवार्य नहीं है -
संस्कृत, पालि,प्राकृत भाषाओँ में विराम चिह्नों की स्थिति - ( ब्राह्मी लिपि से ,शारदा,सिद्धमातृका ,कुटिला,ग्रंथ-लिपि और देवनागरी लिपि.)
संस्कृत की पूर्वभाषा  वैदिक संस्कृत जिस में वेदों की रचना हुई थी, श्रुत परम्परा में रही थी. मुखोच्चार के उतार-चढ़ाव, ठहराव भंगिमा आदि के द्वारा आशय को स्पष्ट करने हेतु पृथक किसी आयोजन की आवश्यकता नहीं थी  (श्रुत परंपरा का प्रयोग ही इसलिये किया गया था, कि उच्चारण, वांछित आशयों से युक्त और संपूर्ण हों.लिखित रूप में वह पूर्णता लाना संभव नहीं). अतः तब विराम-चिह्नो की आवश्यकता नहीं अनुभव की गई. संस्कृत का लिखित प्रचलन ई.पू. पहली शताब्दी से हुआएवं माध्यम रही ब्राह्मी लिपि .ब्राह्मी लिपि 10,000 वर्ष पूर्व से विद्यमान है  माना यह भी जाता है कि इसका अस्तित्व और पहले से रहा है.. कोई कहता है जब से यह ब्रम्हांड है, तब से ‘ब्राह्मी’ का अस्तित्व है. यह लिपि कहाँ से और कैसे आई, इसकी जानकारी नहीं मिलती..
अनेक विशेषज्ञों का यह यह मानना हैं कि ब्राह्मी दुनिया की सभी लिपियों की पूर्वज है. संस्कृत ने भी ब्राह्मी को अपने लेखन हेतु ग्रहण  किया . एशिया और यूरोप की लगभग सभी लिपियाँ ब्राह्मी लिपि से प्रेरित हैं. सम्राट् अशोक के स्तंभों पर यही लिपि है. तात्पर्य यह कि तब यह चलन में थी और  इसका प्रयोग भारतीयों द्वारा होता था.

अस्तु संस्कृत की लिपि ब्राह्मी रही,(संस्कृत की लिपि को  विद्वानों ने  सबसे प्राचीन लिपि माना है.) पालि के लेखन में भी इस का प्रयोग होता रहा था. .
 प्रारंभ में संस्कृत भाषा अव्याकृत रही थी, अर्थात उसकी प्रकृति एवं प्रत्ययादि का  विवेचन नहीं हुआ था (कथा है कि देवों द्वारा प्रार्थना करने पर देवराज इंद्र द्वारा) प्रकृति, प्रत्यय आदि के विश्लेषण विवेचन का "संस्कार" विधान होने के पश्चात् भारत की प्राचीनतम आर्यभाषा का नाम "संस्कृत" पड़ा. ऋक्संहिताकालीन "साधुभाषा" तथा 'ब्राह्मण', 'आरण्यक' और 'दशोपनिषद्' नामक ग्रंथों की साहित्यिक "वैदिक भाषा" का अनंतर विकसित स्वरूप ही "लौकिक संस्कृत" या "पाणिनीय संस्कृत" कहलाया। इसी भाषा को "संस्कृत","संस्कृत भाषा" या "साहित्यिक संस्कृत" नामों से जाना जाता है।
अध्यात्म एवं सम्यक्-विकास की दृष्टि से "संस्कृत" का अर्थ है - स्वयं से कृत या जो आरम्भिक लोगों को स्वयं ध्यान लगाने एवं परस्पर सम्पर्क से आई हो.पाणिनि ने नियमित व्याकरण के द्वारा भाषा को एक परिष्कृत एवं प्रयोग में आने योग्य रूप प्रदान् किया. धीरे-धीरे पाणिनि-सम्मत भाषा का प्रयोग, रूप और विकास प्राय: स्थायी हो गया. पतंजलि के समय तक आर्यावर्त (आर्यनिवास) के शिष्टजनों में संस्कृत प्राय: बोलचाल की भाषा बन गई थी.
इसमें विराम-चिह्नों के प्रयोग पर दृष्टि डालें तो - दूसरी शताब्दी BCE के उड़ीसा के राजा खारवेल के आलेखों में(उड़ीसा की हाथीगुम्फ़ा गुफ़ा),पूर्णविराम की स्थिति दिखाने के लिये वाक्य के बाद  रिक्त स्थान छोड़ा गया है.मज़ेदार बात यह कि खारवेल के लेखों में कहीं अक्षऱ छूट जाने पर उसे लाइनों के बीच में दे कर काकपद/हंसपद चिह्न से इंगित कर दिया गया है. खारवेल के लेख में भारतवर्ष नाम का प्रयोग हुआ है अशोक के शिलालेखों में जंबूद्वीप और पथिवी शब्द -यद्यपि इसका प्रयोग महाभारत और कुछ पुराणों में मिलता है
उसी समय के लगभग रामगढ़ की गुफ़ाओं विराम के समान खड़ी पाई मिलती है लेकिन वह अंकन एक पेंटर का है किसी शासक का नहीं.)
ग्रंथ नामक लिपि भी तमिल में संस्कृत ग्रंथों के लेखन हेतु  7वीं शताब्दी से प्रचलन में आई. ग्रंथ लिपि के लिये मान्यता है कि ये लिपि ब्राह्मी से विकसित है ..दक्षिण के पाण्ड्य, पल्लव तथा चोल राजाओं ने अपने अभिलेखों में इस का प्रयोग किया है.इसे पल्लव  लिपि भी कहा जाता है.
 क्योंकि वहाँ प्रचलित तामिल लिपि में सिर्फ अठारह व्यंजन वर्णों का चलन होने के कारण,संस्कृत की विभिन्न ध्वनियों का अंकन संभव नहीं था .
 विरामचिह्नों का आगमन भारतीय भाषाओँ में पाश्चात्य प्रभाव से हुआ. यद्यपि इसके कुछ अपवाद भी हैं - ई.पू. तीसरी शती में ब्राह्मी लिपि में अंकित पालि भाषा में(रामगढ़ गुफ़ा ) पूर्ण विराम के रूप में खड़ी पाई मिली है लेकिन वह किसी शासक के द्वारा न हो कर एक पेंटर के द्वारा है ,
 किसी विराम चिह्न का नियमानुसार प्रयोग नहीं मिलता.
   - डॉ. विष्णु सक्सेना के शोध-पत्र का आधार .]

विराम- अविराम.
मेरे कंप्यूटर का हिन्दीवाला कुंजी-पटल विराम-चिह्न लगाने में गड़बड़ करने लगा है ,कितना ही खटखटाओ प्रश्न-चिह्न और विस्मयादिबोधक तो तशरीफ़ लाते ही नहीं - लेकिन अंग्रेज़ी का हो तो चट् हाज़िर. लगता है इनमें भी हिन्दी-कांप्लेक्स आ गया !
 एक वाक्य भी पूरा नहीं कर पाई थी कि बाहर की घंटी बजी . सोचा,पूरा ही कर चलूँ . अंग्रेज़ी का ऑन किया ,जरा सा इशारा मिलते ही प्रश्नू (प्रश्नचिह्न)आ विराजे. ओह, हड़बड़ी में चूक हो गई , यहाँ तो विस्मया(विस्मयादि प्रदर्शिका) की ज़रूरत थी.  फिर खटकाया,विस्मया भी हाज़िर .
मैंने लिखा था  - वाह,क्या ज़ोरदार बारिश हो रही है?!
और लिखते ही ध्यान आया पड़ोस की लड़की को बताया गया है कि जहाँ ,क्या ,कैसे,कहाँ ,कौन जैसे शब्द आयें समझ लो प्रश्न-चिह्न लगेगा.
बच्चों को कितनी अधूरी जानकारी देते हैं लोग ,सोचते-सोचते हड़बड़ी में खुद गलत चिह्न लगा बैठी.
 अब एक साथ खड़े थे गये दोनों ,प्रश्नू और विस्मया - एक दूसरे को घूरते हुए.
एक को  हटाना पड़ेगा, पर  बाहर जाने की जल्दी थी अभी तो .
 बहुत दिनों बाद  चित्रा आई थी .
चाय-पानी और गप्पबाज़ी में ढाई घंटा निकल गया.
आज तो काम पूरा होने से रहा, सो  उसके जाते ही वहीं कुर्सी पर पाँव पसार लिये. अलसाई लेटी थी आँखें मूँदे .
अचानक कानों में कुछ आवाज़े लगीं -
 'कैसी खराब आदत है,हर जगह मुँह बाये खड़े हो जाते हो,ज़रूरत हो चाहे न हो.'
'बिना बुलाये नहीं आता .बड़ी छम्मकछल्लो बनी घूमती है.'
'बे-ध्यान में खटका दिया तुम्हें ,भागते चले आये.यहाँ तुम्हारी कोई ज़रूरत नहीं , सोच-समझ कर मुझे बुलाया गया है.'
 'अपने को जाने क्या समझती है ,भाव दिखाने से कभी मन नहीं भरता तेरा!'
अरे ,ये कैसा झगड़ा हो रहा है. झाँक  कर देखा सँड़ासी जैसा मुँह बनाए प्रश्न-चिह्न और बड़ी अदा से हाई हील पर सधी,  कमर पर हाथ धरे बिस्मयादि-प्रदर्शिका.
इन दोनो की तो जैसे छठी-आठैं है .बिलकुल नहीं पटती. एक दूसरे पर हमेशा खौखियाये रहते हैं.

 प्रश्नू को लगता है जहाँ क्या ,कैसा ,कहाँ हो वहाँ उसे होना चाहिये.
विस्मया भी चौकन्नी रहती है. तुरंत बहस करती चली आती है - 'चलो हटो वहाँ से ,भाव व्यक्त हुआ है प्रश्न नहीं पूछा किसी ने....'
 ' तू काहे को बहस कर रही है, लिखनेवाला तय करेगा न'.
'हमारे भी कुछ अक्ल है,' कमर पर हाथ धरे विस्मया कहाँ चुप रहनेवाली.
कोलाहल सुनकर लगा कुछ और लोग भी हैं वहाँ.
उफ़, चैन से बैठना मुश्किल कर दिया. पलट कर देखा - अर्ध और अल्प विराम ,योजक, उक्ति  विवरण आदि लोग मज़मा लगाये खड़े हैं. दोनो का तमाशा देख रहे हैं.
ये लोग भी कम थोड़े ही हैं .अल्पू और अर्धू दोनों विराम छोटे हैं तो क्या खोटे भी हो जाते हैं कभी-कभी. आपस में नहीं बनती .अल्पू छोटा -सा है पर बड़ा तेज़ और बहुधंधी है, फ़ुर्तीला भी बहुत है. खूब सोशल है , हर जगह दिखाई दे जाता है. सामान्.रूप से लोग इसे कामा के नाम से जानते हैं. यही इसका ओरिजिनल नाम है भी .
उक्ति ,और कोष्टक में भी दाँव-पेंच चलते रहते हैं ,
योजक और विवरण अक्सर कनफ़्यूजिया जाते हैं, पर हल्ला नहीं मचाते .
पूर्ण विराम सबसे बड़ा ठहरा उसके सामने सब रुक जाते हैं,- पूरण दा आ गये जरा रुको भाई.
पूर्ण-विराम पूछ रहा था-
क्यों रे अल्पू,तू छोटा है ,कहीं भी दुबक कर बैठ जाता है ,तुझे पता होगा बात क्या है .
 मैं भी उधर चली मेरी आहट सुन कर प्रश्नू और विस्मया चुप हो गये बाकी सारे हड़बड़ा कर की-बोर्ड  में जा घुसे(बिना बुलाये आ गये थे न).
जैसी उदार हमारी संस्क़ति है ,वैसी ही वर्णमाला (मुझे लगता है  विरामचिह्न लोग वर्णमाला के अंतर्गत होने चाहियें.)सबको धारण कर लेनेवाली विशाल-हृदया.ये सब लोग पश्चिमी जगत से हिन्दी में आये हैं संस्कृत की पूर्वभाषा थी छन्दस् ,जिसमें वेदों की रचना हुई, वह श्रुत परम्परा में रही थी. उसमें आशय को स्पष्ट करती विराम योजना मुखोच्चार से अनायास सम्पन्न हो जाती थी. (श्रुत परंपरा चली ही इसलिये थी कि उच्चारण,अपने पूरे उतार-चढ़ाव और भंगिमाओं सहित वांछित और संपूर्ण हों.लिखित रूप में संकेतों के अनुसार  बोलने में आरोह-अवरोह ठहराव,भंगिमा और  शब्दों के उच्चार में वही पूर्णता लाना संभव नहीं).
आगतों ने  भाषा के सहायक- उपकरण के रूप में प्रवेश किया था .
पहले बराबर का चिह्न धीरे से चला आया ,चलो ठीक है रहने दो भाई .फिर तो घुस-पैठ बढ़ती गई ,धड़ल्ले से लोग आने लगे
विवरण चिह्न, देख रहे हो न ,ये दो रूप धरता है .
दो बिन्दु लगा कर आगे पढ़ने का संकेत देता है ,जब लोगों ने  .
चिढ़ाना शुरू किया कि कैसा लदा है पीठ पर ,अपने से खड़ा नहीं हुआ जाता - तो दोनो बिन्दुओं के बीच  छोटी सी रेखा खींच नया रूप बना लिया .
अब एक नया ढंग चला है  एक तीर लगा कर बताता है इधर देखो देखो.
पूरी लंबाईवाले पूरण दादा  (पूर्ण-विराम) की गिनती के हमारे बूढ़-पुरनियों में हैं . पता नहीं कब से विराज रहे हैं. लंबे इतने हैं,अक्सर ही टेढ़े हो जाते हैं. गिरें तो कहीं फ़ैक्चर न हो जाय सो लोग इ्हें आराम करने की सलाह देते हैं. इनकी जगह बिन्दु को तैनात कर दिया है. रोड़े जैसै अड़ कर रास्ता रोक लेने में माहिर है न.रुकना ही पड़ेगा सबको .पुरातनपंथी हल्ला मचाते हैं ,अरे पूर्ण विराम ही तो एक हमारा है. उसे रहने दो बाकी सब तो नई दुनिया से आए हैं.
अरे भाई, अब तो सब अपने हैं सब के सब तत्पर रहते हैं  ,अपना-पराया  मत करो  - वसुधैव कुटुम्बकम्. और सच तो यह है,  जिस खड़ी रेखा को पूर्ण-विराम बताया जा रहा है वह अपने में ही संदिग्ध है. ग्रंथों में देख लीजिये वहाँ अर्ध विराम के रूप में प्रयुक्त है. किसी भी धार्मिक ग्रंथ को उठा लीजिये, अर्धाली पूरी होने पर एक खड़ी रेखा पूरा होने पर दो रेखायें,अर्थात् पूर्ण विराम. कभी-कभी तो उनसे भी काम नहीं चलता ,छंद संख्या देने बाद फिर वही दो लकीरें.अब हम क्या कहें -प्रमाण सामने है ,तो फिर हम एक खड़ी पाई को कैसे प्रामाणिक पूर्ण-विराम मान लें ?
  अब उक्ति चिह्न - उक्ति को जब कहीं से लाया जाता है तो सबसे पहले अपनी सुरक्षा के लिये दोनों ओर सीमाओं का अंकन करवा लेती है. उसे कहीं से उठा कर लाया जाता है सो अच्छी तरह समझती है . अकेली महिला को देख लोगों की अतिक्रम (मर्यादा का) करने की आदतें जग-विदित हैैं. वह सावधानी रख कर पहले ही पूरा प्रबंध कर लेती है.
रेखा हमेशा की उतावली, हाई लाइट करती, अपनी धाक जमाती चलती चली जाती है- कर लो, कोई क्या कर लेगा.
कोष्ठक तीनों जेलर टाइप के हैं. मूल रूप से गणित के वासी हैं .जनता  की सुविधा सरलता के लिये कुछ लोगों को लिये बंद कर लेते हैं. ये लोग  तीन भाई हैं .बड़ा वाला गंभीर व्यक्ति है, मँझला भी अधिकतर अपने में ही रहता है. ये छोटावाला अधिक तत्पर है ,और सबको स्पष्टीकरण देता रहता है .
बाकी बची लोपामुद्रा , लोप होने की मुद्रा है न इसकी. छोटा नाम इस पर  अधिक जँचता ,है सो घर में लोपा कहते हैं हम .
प्रतिशत ,डालर ,पाउंड,  अपना विदेशीपन कायम रखे हैं
  कंप्यूटर के आने के बाद तमाम लोग बाउंड्री पार कर कूद आये. कितने अंग्रेज़ी के रास्ते आये  लेटिन से अल्फ़ा,बेटा डेल्टा आदि प्रविष्ट हो गये  &*^3@ ,और भी जाने कौन-कौन.
परिवार है आबादी बढ़ेगी ही .
देखो भाई ,ज्ञान-विज्ञान की शाखाएँ चल निकली हैं. उऩकी अपनी गति-मति , सब फलती-फूलती बढ़ेंगी वांछित दिशाओं में .
आगे का हाल - अब पूछो मत ,देखे जाओ .
आगे-आगे देखिये होता है क्या !
***