सोमवार, 12 सितंबर 2022

एक सूचना.

ब्लाग-जगत से संबद्ध सभी सुधी जनों को सूचित करना चाहती हूँ कि मेरे द्वारा लिखित उपन्यास कृष्ण-सखी,शवेतवर्णा प्रकाशन से प्रकाशित हो कर आ गया है. पुस्तक क्रय करने के लिये संपर्क-Shwetwarna Prakashan,232,B1, Lok Nayak Puram,New Delhi -110041. Mobile:+91 8447540078 Email:shwetwarna@gmail.com पुस्तक पर आपकी प्रतिक्रिया जानने की उत्सुकता रहेगी. - प्रतिभा सक्सेना.

गुरुवार, 4 अगस्त 2022

'हिन्दू': व्युत्पत्ति के अनुसार -

*

जब हम स्कूल में  पढ़ते थे तो बताया गया था कि जिस प्रकार व्यक्ति जीवन में अपना नामकरण स्वयं नहीं करता ,उसका नाम दूसरे लोगों द्वारा उसे दे दिया जाता है उसी प्रकार यह नाम हिन्दूऔर हिन्दुस्तान हमें दूसरों के द्वारा दिया गया है .

- कि  'हिन्दु' शब्द सिन्धु का एक रूप है  -क्योंकि जो लोग उत्तर-पश्चिम से इधर आये थे  उन्हें भारत में आने के लिये  सिन्धु नदी पार करनी पड़ी . इस पार के प्रदेश को उन लोगों ने सिन्धु के नाम को आधार बना कर नाम दे दिया .लेकिन उनके उच्चारण  भिन्न प्रकार के थे  जहाँ 'स' ध्वनि 'ह' में परिणत हो जाती थी (वे सप्ताह को हप़्ता ,मास को माह उच्चरित करते थे )उन्होने 'सिन्धु' को 'हिन्दु ' कहना शुरू कर  दिया था, परिणाम स्वरूप सिन्धु  नदी के इस पार के प्रदेश को हिन्दुस्तान नाम दे दिया.

 परंतु वास्तविकता यह है कि 'हिन्दू' शब्द का प्रयोग , बहुत प्राचीन काल से होता रहा है. भारत के प्राचीन ग्रंथ " वेदों " और " पुराणों " में . हिन्दू ' शब्द का उल्लेख मिलता है. 

अतः इसका संबंध प्राचीन, संस्कृत  से है, जहाँ यह कथन मिलता है -

" हीनं दुष्यति इति हिन्दूः ।” 

अर्थात : जो अज्ञानता और हीनता का त्याग करे उसे हिन्दू कहते हैं ।

यदि संस्कृत के इस शब्द का सन्धि विच्छेदन करें तो पायेंगे ....

 हीन + दू = हीन भावना + से दूर

अर्थात् : जो हीन भावना या दुर्भावना से दूर रहे , मुक्त रहे , वो हिन्दू है !

"ऋग्वेद" के " बृहस्पति अग्यम् " में 'हिन्दू शब्द का उल्लेख इस प्रकार आया हैं :-

“ हिमालयं समारभ्य यावद् इन्दुसरोवरं । 

 तं देवनिर्मितं देशं 

 हिन्दुस्थानं प्रचक्षते ।" 

अर्थात् : हिमालय से इंदु सरोवर तक , देव निर्मित देश को हिंदुस्तान कहते हैं !

केवल " वेद " ही नहीं, बल्कि " शैव " ग्रन्थ में हिन्दू शब्द का उल्लेख इस प्रकार किया गया हैं 

" हीनं च दूष्यत्येव हिन्दुरित्युच्यते प्रिये ।”

अर्थात :- जो अज्ञानता और हीनता का त्याग करे उसे हिन्दू कहते हैं !

" पारिजातहरणम् " में 'हिन्दू' को कुछ इस प्रकार कहा गया है :-

”हिनस्ति तपसा पापान्

अर्थात :- जो अज्ञानता और हीनता का त्याग करे उसे हिन्दू कहते हैं !

" माधव दिग्विजय  में भी 'हिन्दू' शब्द को कुछ इस प्रकार उल्लेखित किया गया है :-

“ ओंकारमन्त्रमूलाढ्य

 पुनर्जन्म द्ढाृंय: ।

 गौभक्तो भारत:

 गरुर्हिन्दुर्हिंसनदूषकः ।" 

अर्थात : वो जो " ओमकार " को ईश्वरीय धुन माने , कर्मों पर विश्वास करे , गौ-पालक रहे , तथा बुराइयों को दूर रखे, वो हिन्दू है !

इससे मिलता जुलता लगभग यही श्लोक " कल्पद्रुम " में भी दोहराया गया है :

" हिनस्तु दुरिताम्''

ऋग्वेद में " (8:2:41) में हिन्दू नाम के एक बहुत ही पराक्रमी और दानी राजा का वर्णन  भी मिलता है.

निष्कर्ष  - बुराइयों को दूर करने के लिए सतत प्रयासरत रहने वाले , सनातन धर्म के पोषक व पालन करने वाले हिन्दू कहलाए.

*











 


बुधवार, 3 अगस्त 2022

एक सवाल -

*

क्या कैलेणडरों निमंत्रण-पत्रों और प्रयोग में आने के बाद फेंक दी जानेवाली चीज़ों पर भगवान के फ़ोटो छपवाना सही है?

ऐसी चीज़ें, जो उपयोग के बाद हमारे लिये बेकार हो जाएंँ,कूड़े में फेंक दी जाएंँ या रद्दी मे डाल दी जाएँ,और उन पर छापे गये  फ़ोटो जो कल तक दीवारों या मेज़ की शोभा बने थे किसी काम के न रहें,  बेकार  होकर  कूडे के ढेरों में,डाल दिये जाएं ,फट-फट कर चिन्दियाँ इदर-उधर बिखरती रहें पाँवों से कुचले जाते या रद्दी में बिक कर उनका मनमाना उपयोग किया जाता रहे. क्या यह उचित है या स्वीकार्य है? 

जब तक उनकी ज़रूरत रही, सँभाले रहे और फिर उसका कोई हाल हो इससे कोई मतलब नहीं - सारा सम्मान तब तक, जब तक काम निकलता  है. 

और तो और देवी ,गणेश, श्रीकृष्ण, इत्यादि देवों की स्वर्ण आकृतियाँ गढ़वा कर ,आभूषणों में जड़वा कर ,या पेंडेन्ट बना कर पहनना  उनके प्रति श्रद्धा- सम्मान व्यक्त करना है या अपनी आत्म-तुष्टि का एक साधन है?

होता यह है कि पसीने से चिपचिपातेी देह पर,पहने हुए वस्त्रों के ऊपर-नीचे हिलते-डोलते, झटके खाते, पहननेवाले की शान दिखाने के लिये, लटके रहते हैं, इसे उन रूपाकारों के प्रति,पूज्य-भाव, श्रद्धा या उनका  आदर-मान कहें या अपनी  सम्पन्नता का प्रदर्शन? 

इस प्रकार का आचरण उनका अपमान नहीं कहा जाएगा?

क्या किसी भी प्रकार से इसे उचित कहा जा सकता है? 

*

पुनश्च (दिनांक:6अगस्त,2022.)

एक बात रह गई  -

व्यक्तिगत कहें  अथवा सामाजिक विचार-हीनता (नैतिक-पतन की सीमा तक कहें तो कैसा लगेगा?) ,'ऐसे ही चलती रहे - हमें क्या फ़र्क पड़ता है' सोच कर चुप लगा जाएँ या  उचित कदम उठाना जरूरी लगता है ?

*

शुक्रवार, 8 जुलाई 2022

सुहाग -

'सुहाग' शब्द को लेकर ,अपनी एक मित्र के साथ  मेरी बहस  हो गई .उनका कहना था -जिसका पति जीवित हो वही सुहागिन ,और यह शब्द स्त्री के परिप्रेक्ष्य में ही प्रयुक्त किया जाता है .किसी पुरुष के साथ सुहागवान होने की न होने की समस्या नहीं होती, वह ऐसी चीज़ों से परे है .अधिक से अधिक वह विधुर  हो सकता है जो उसके लिये किसी सामाजिक वंचना का कारण नहीं वनता .लेकिन स्त्री यदि विधवा है तो सुहाग से वञ्चिता कहलाएगी.और सुहाग से वञ्चिता तो तमाम चीज़ों से वञ्चित होना उसके लिये लाज़िमी है - 

 ऐसा लगता है समाज में नारी की स्थिति के साथ  जुड़ा सुहाग शब्द अपने अर्थ  में रूढ़ होता गया .

अब  'सुहाग' एक शब्द -मात्र नहीं,  यह व्यापक अर्थ से परिपूर्ण एक व्यंजक पद है. एक सांस्कृतिक अवधारणा है जिसमें नारी के  सर्वांगसम्पूर्ण  जीवन की परिकल्र्पना -समाई है . सफल-संपन्न नारी-जीवन का बोधक है यह छोटा-सा शब्द - श्री-सुख-माधुर्य से परिपूर्ण जीवन  का सूचक

लेकिन सुहाग शब्कीद  परिभाषा कर उसे किसी सीमा में बाँधना संभव नहीं, पीढ़ियों की मान्यताओँ और आचार-व्यवहार  से पोषित धारणा  लोकमन पर गहरी पकड़ रखती है और सदियों के संस्कार संचित उऩ शब्दों की अनूभूति-प्रवणता मंद नहीं होती (फ़ालतू की बौद्धिक  कसरतों से उसमें अर्थ -अनर्थ की संभावना कर ले ,कोई तो बात दूसरी है.).इस प्रकार के 
 शब्द अनुवादित नही हो पाते , क्योंकि किसी भाषा के शब्द ,जिन  मूल्यों और मान्यताओं को वहन करते हैं वह उसकी समाजिक-सांस्कृतिक धरोहर है जिसे  दूसरी भाषाएँ स्वाभाविक रूप में ग्रहण और व्यक्त नहीं कर पाती .
इस शब्द का सही अर्थ समझने के लिये एक लोक-प्रचलित पद्यमय कथन 'आरी-बारी' दृष्टव्य है,जो स्त्रियाँ अपनी व्रत-पूजाओं में अक्षत-पुष्प हाथ में ले कर श्रद्धापूर्वक कहती- सुनती हैं   सुहाग की कामना करती कन्या ,अपने भावी जीवन की परिकल्पना करती हुई देवी से कृपा-याचना करती है -
आरी-बारी -
' आरी-बारी ,सोने की दिवारी ,
तहाँ बैठी बिटिया कान-कुँवारी .
का धावै ,का मनावै ?
सप्ता धावै,सप्ता मनावै .
सप्ता धाये का फल पावै ?
पलका पूत ,सेज भतार ,
अमिया तर मइको ,महुआ तर ससुरो .
डुलियन आवैं पलकियन जायँ .
भइया सँग आवें ,सइयाँ सँग जायँ .
चटका चौरो ,माँग बिजौरो ,
गौरा ईश्वर खेलैं सार .
बहुयें-बिटियाँ माँगें सुहाग-
सात देउर दौरानी ,सात भैया भौजाई,
पाँव भर बिछिया ,माँग भर सिंदुरा ,
पलना पूत, सेज भतार ,
कजरौटा सी बिटियां सिंधौरा सी बहुरियाँ ,
फल से पूत, नरियर से दमाद.
गइयन  की राँभन,घोड़न की हिनहिन .
देहरी भरी पनहियाँ ,कोने भर लठियाँ ,
अरगनी लँगुटियाँ
चेरी को चरकन ,
बहू को ठनगन
बाँदी की बरबराट,काँसे की झरझराट,
टारो डेली,बाढ़ो बेली,
वासदेव की बड़ी महतारी .
जनम-जनम जनि करो अकेली .
 *
मैं जानी बिटिया बारी-भोरी ,
चन मँगिहै ,चबेना मँगिहै ,
बेटी माँगो कुल को राज .
पायो भाग!
 सप्ता (सप्त मातृका) दियो सुहाग !'
- अपनी कामना के साथ हाथ में धरेअक्षत -पुष्प   देवी-माँ क चरणों में अर्पित कर देती हैं.

  सांसारिक जीवन में अपनी बहुमुखी भूमिका  निबाहती .सुखी समृद्ध  गार्हस्थ्य  की धुरी के रूप में कल्याणमयी नारी का स्वरूप , सुहाग  की मूल अवधारणा है.