बुधवार, 18 नवंबर 2020

सफ़ाई

  हमारी नातिन बड़ी सफ़ाई पसन्द है .

 एक बार की बात है मेरा कंघा नहीं मिल रहा था.

वह बोली,'नानी मेरा ले लीजिये .' 

'ढूँढ रही हूँ.अभी मिल जायेगा,जायेगा कहाँ !'

 ' मुझे पता है आप किसी के कंघे से बाल नहीं काढतीं .मेरा बिल्कुल साफ़ रखा है .आपने उस दिन ब्रश से साफ़ किया था ,तब से वैसा ही रखा है. ' 

'क्यों तुम उससे बाल नहीं काढ़तीं ?' 

'मैं तो मम्मी के से काढ़ लेती हूँ , मेरा कंघा हमेशा बिल्कुल साफ़ रखा रहता है.' 

 सुन कर मैं तो हक्की-बक्की. आगे कुछ सूझा ही नहीं.

अब आप देख लीजिये  -

ऐसी होती है सफ़ाई ! 

*


11 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (२१-११-२०२०) को 'प्रारब्ध और पुरुषार्थ'(चर्चा अंक- ३८९८) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  2. ये इंस्टेंट जवाब आज कल हर घर में मौजूद होता है प्रत‍िभा जी...

    जवाब देंहटाएं
  3. सफाई रखने का लाजवाब तरीका

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह!!!
    सही कहा आपने अपना कंघा साफ रखना है मम्मी के कंघे को यूज किया...।
    सफाई का नया तरीका।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर रचना, निःसंदेह आज की पीढ़ी सफ़ाई पसंद है - - नमन सह।

    जवाब देंहटाएं
  6. चतुराई भरा सफाई का तरीका बेहद पसंद आया.. सुन्दर सृजन.

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह! इस मासूमियत पर मन मोह गया।
    सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  8. इसे कहते हैं प्रेम
    एक बार जो सफाई हुई तो उसे यादगार बना कर रख लिया
    सुंदर

    जवाब देंहटाएं